Module 2

Module Two – Introductions

परिचय

Introductions

a. Introducing Self

Module 2.1

 

            परिचय

(Introduction)­­­

 

 

नौकरी के लिए इंटरव्यू में अपना परिचय देना

Introducing Self in a Job Interview

 

Text Level

 

Intermediate High

Modes

Interactive

Interpretive

 

What will students know and be able to do after completing this unit?

Introducing oneself in some detail in culturally appropriate ways


Text

(साक्षात्कार के लिए संतोष मिश्रा का नाम पुकारा जाता है और संतोष मिश्रा भीतर जाने के लिए ऑफ़िस के दरवाज़े पर खड़े हो कर अनुमति माँगता है )

संतोष – सर ! क्या मैं भीतर आ सकता हूँ ?

नियोक्ता – आइए, आइए। बैठिए !

                ( संतोष कमरे में आता है और अभिवादन करता है )              

संतोष – नमस्कार सर !

 (संतोष कुर्सी पर बैठता है और अपने बैग को सँभालता है)

नियोक्ता – नमस्कार ! तो आपने  अकाउंटेंट पद के लिए आवेदन किया है।

संतोष –जी हाँ सर !

   (नियोक्ता संतोष मिश्रा का आवेदन पत्र उठाते हैं)

नियोक्ता  – अपने परिवार के बारे में कुछ बताइए।

संतोष – सर ! मेरा नाम संतोष मिश्रा है। पिताजी का नाम रमाशंकर मिश्रा है। वे 36 साल तक भारतीय रेल सेवा के बाद पिछले साल ही रिटायर हुए हैं। मेरी माता का नाम माया देवी है और वे एक गृहिणी है। आज मैं जो कुछ भी हूँ अपने माता-पिता के त्याग और आशीर्वाद के कारण ही हूँ।

नियोक्ता – आप ऐसे क्यों बोल रहे हैं मि. मिश्रा ?

संतोष – सर  परिवार में मेरे अलावा दो भाई और चार बहनें हैं और मैं सबसे छोटा हूँ। घर में सिर्फ़

पिताजी ही कमाने वाले थे और उनकी नौकरी भी सिर्फ़ क्लर्क ग्रेड की ही थी। लेकिन मेरे पिताजी की कर्मठता, दूरदृष्टि और माता के त्याग के ही कारण सभी हम भाई-बहनों को अच्छी से अच्छी शिक्षा मिल सकी। आज मेरे दोनों भाई सरकारी नौकरी में हैं और मेरी चारों बहनों की शादी भी अच्छे घरों में हो गई।

नियोक्ता – बहुत अच्छा ! अब अपनी  शिक्षा और कार्य-अनुभव के बारे में कुछ बताइए। 

 संतोष – सर ! जैसाकि मेरे प्रमाण-पत्र  में दर्ज है – 16 अगस्त 1980 को मेरा जन्म आगरा में हुआ और मेरी प्रारंभिक शिक्षा सेंट जॉर्जेस स्कूल से पूरी हुई। बी.कॉम.ऑनर्स की डिग्री मैंने श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स दिल्ली से प्राप्त की। बी.कॉम के दौरान एकॉउंटेसी में विशेष रुचि ने मुझे सी.ए. करने के लिए प्रेरित किया। मैंने इंटर  और बी.कॉम में भी एकाउंटेसी विशेष योग्यता के साथ पास की थी। सी.ए. की डिग्री मुझे तीन साल के अंदर ही  मिल गई थी। अपनी सी.ए. की पढ़ाई के दौरान मैं आर्टिकलशिप के लिए महेंद्रा एंड महेंद्रा की एक यूनिट में जाता था। जहाँ सी.ए. की योग्यता के कारण मेरी पहली नौकरी लगी।

 नियोक्ता – महेंद्रा एंड महेंद्रा की किस यूनिट में आपने काम किया है?

संतोष – सर ! नोएडा वाले यूनिट में।

नियोक्ता –वहाँ तो कोई मिस्टर चोपड़ा फाइनेंस के हेड हैं !

संतोष – जी सर ! आर.एल.चोपड़ा – श्री रमन लाल चोपड़ा।

नियोक्ता – हाँ , मैंने और चोपड़ा ने एक साथ सन 1955 में लंदन से ऑनर्स में डिग्री ली थी।

संतोष – तो आप श्री चोपड़ा को अच्छी तरह जानते होंगे ? चाहें तो उनसे मेरे बारे में पूछताछ कर सकते हैं।

नियोक्ता – नहीं , इसकी कोई आवश्यकता नहीं।अगर आप पिछले तीन साल से महेंद्रा एंड महेंद्रा में काम कर रहे थे फिर अचानक यहाँ —

संतोष – सर ! मेरे ख़्याल से तीन साल में मैंने महेंद्रा एंड महेंद्रा में बहुत कुछ अनुभव प्राप्त कर लिया है। अब मैं नए अनुभव  के लिए आपके यहाँ आना चाहता हूँ।

नियोक्ता – मिस्टर  संतोष ! आपकी  शैक्षिक योग्यता  एवं कार्यानुभव हमारे लिए काफ़ी उपयुक्त है। मैं  अभी अपने जी.एम. से आपकी मुलाकात करवाता हूँ। वे आपसे सेवा-शर्तों की चर्चा करेंगे और दो–चार दिन में आपको नियुक्तिपत्र भिजवा देंगे। आप बाहर इंतज़ार करें।

संतोष – धन्यवाद सर ! आपके यहाँ काम करना मेरा सौभाग्य होगा। नमस्कार।

नियोक्ता – नमस्कार।

            (संतोष मिश्रा उठकर बाहर जाता है)

Glossary

( shabdkosh.com is a link for an onine H-E and E-H dictionary for additional help)

साक्षात्कार  m interview
पुकारना बुलाना, to call (not on telephone)
भीतर अंदर, inside
नियोक्ता  m employer, hiring authority
अभिवादन करना to greet
सँभालना to take care of
आवेदन पत्र  m अर्ज़ी f, application letter (for a job, etc.)
आशीर्वाद  m blessing
प्रारंभिक शिक्षा  f primary education
रुचि  f दिलचस्पी f, interest
योग्यता काबलियत f, ability, capability
आवश्यकता  f ज़रूरत f, need
कार्यानुभव  m काम का तजुर्बा m, work-experience
नियुक्ति-पत्र  m appointment-letter
सौभाग्य  m ख़ुशकिस्मती f, good luck

Structural Review

1. साक्षात्कार, नियोक्ता, प्रारंभिक शिक्षा, प्रमाणपत्र, कार्यानुभवसेवा-शर्तें, नियुक्ति-पत्र

 

Hundreds of new words and combination of words have taken on new meanings in order to match their English equivalents used in different professional contexts.
2. अकाउंटेंट, बैग, यूनिट, हेड, एकॉउंटेसी These words have Hindi equivalents which are either not used frequently or have a different connotation.  For example, there is a difference between अकाउंटेंट and मुनीम, and similarly between बैग and थैला.
3. सर, मिस्टर

 

 

The use of such words depends on speakers’ personal choice. Instead of सर or मिस्टर, one could have easily used the Hindi words श्रीमन् for addressing someone or श्री as an honorific title However, the preference for the use of English words is becoming very frequent in many regions of India and is dictated by factors like habit, modernity, higher education, etc.
4. सेंट जॉर्जेस स्कूल,

बी.कॉम.ऑनर्स, सी.ए., जी.एम.

Such English proper nouns and acronyms are commonly used and Hindi equivalents of these are not common.
5. मैं  …. आपकी मुलाकात करवाता हूँ

 

Most Hindi verbs have two causative forms, which are known as first causative and second causative. In the case of some verbs, the meanings of the first and second causatives are identical. For example, in the case of पढ़ना-पढ़ाना-पढ़वाना, meanings are distinct. But in the case of करना-कराना-करवाना, the two causative forms have the same meaning. Is a note about the distinction needed here?

Cultural Notes

1. Family Background

 

Traditionally, family background was very important. However, in modern corporate settings, this is no longer an important factor.
2. Courtesy Expressions

 

Use of courtesy expressions for a person one is communicating with or referring to, is necessary to show respect. People who are younger in age and junior in social or professional status are expected to use such expressions when talking to or about their seniors. Examples from this unit are – अभिवादन करना, नमस्कार, जी, use of plural forms, मिस्टर, सर, सौभाग्य.
3. Addressing Others

 

Addressing older persons or professional superiors by first name has not been a common practice. This appears to be changing, especially in the corporate world and using a respect marker either before or after the first or last name is common.

Practice Activities (all responses should be in Hindi)

1. If you were to interview Santosh Mishra what questions you would like to ask him. Frame five appropriate questions in Hindi.
2. Compare and contrast the American way and the Indian way of interviewing and the type of questions that are asked in a job interview.
3. With the help of the questions you framed, interview each other and then critique how each other’s questions worked out.
4. What are the courtesy expressions used in this unit?
5. संतोष – सर ! क्या मैं भीतर आ सकता हूँ ?

What are different ways in which one could have said the same thing without using any English word? Make sure what you suggest is contextually and culturally appropriate.

6. वहाँ तो कोई मिस्टर चोपड़ा फाइनेंस के हेड हैं

What would be an appropriate word in Hindi for हेड?

Comprehension Questions

1. Talking about his family, what is Santosh Mishra trying to emphasize?

a. his family’s high social status

b. that his family is very eduated

c. that his family is very needy.

d. that he is very family-oriented.

3. What is the role of Mr. Chopra in this interview?

a. He is the one who recommended Santosh.

b. He is mentioned as a reference in Santosh’s application.

c. The employer wants to call him to know more about Santosh.

d. He is just casually mentioned during the conversation.

b. Introducing Others

Module 2.2

 

            परिचय

(Introduction)­­­

 

दूसरों का परिचय देना

Introducing  Others

Text Level

 

Intermediate High

Modes

Interactive

Interpretive

 

What will students know and be able to do after completing this unit?

Introducing others in culturally appropriate ways


Text

(दो लोग अखिल शर्मा और रमेशचंद्र सेठी ऑफ़िस के एक कमरे में बैठे हैं। ऐसे में मोहम्मद इलियास कमरे में आते हैं )

मो.इलियास – सर ! क्या मैं अंदर आ सकता हूँ ?

र.सेठी – आइए मि.इलियास !

  ( मोहम्मद इलियास कमरे में प्रवेश करते हैं )

मो.इलियास – नमस्कार सर !

र.सेठी – नमस्कार , बैठिए मि. इलियास।

मो.इलियास – शुक्रिया सर !

       ( मो.इलियास ख़ाली कुर्सी पर बैठते हैं )

र.सेठी – मि. शर्मा आप इनसे मिलिए। ये हैं मि. मोहम्मद इलियास !

अ.शर्मा – नमस्कार , मि.इलियास !

(मो.इलियास एकाएक खड़े होकर शर्मा जी का अभिवादन करते हैं)

मो.इलियाससर ! आपसे मिलकर बहुत ख़ुशी हुई। बहुत सारे किस्से सुने हैं सर आपके बारे में।

र. सेठी – सुना शर्मा जी ! हमारे कॉलेज के किस्से आज तक चर्चा में हैं।

 ( यह कह कर रमेशचंद्र सेठी और अखिल शर्मा ठहाका मार कर हँस पड़ते हैं )

मो.इलियास – (थोड़ा शर्माते हुए ) नहीं, नहीं सर ! मैं तो व्यावसायिक जगत में आपके नित नए प्रयोगों के किस्सों की बात कर रहा था।

र.सेठी – भई ! मैं तो डर ही गया था।

              ( तीनों मंद मंद मुस्कुराते हैं )

र.सेठी – शर्मा जी ! मि.इलियास एक बहुत ही प्रतिभावान और योग्य इंजीनियर हैं। इनका ताल्लुक लखनऊ के एक नामी ख़ानदान से है। आपने मोहम्मद आज़म खान का नाम तो सुना ही होगा। आप उन्हीं के सबसे छोटे बेटे हैं।

अ.शर्मा – हाँ, हाँ ! सुना क्यों नहीं ? वे तो बहुत मशहूर इंजीनियर हैं। शायद सरकार ने उन्हें कोई विशिष्ट पुरस्कार भी दिया था।

मो.इलियास  – हाँ सर ! वे मेरे वालिद थे। उनको 2000 में पद्मभूषण मिला था।

अ.शर्मा – अच्छा ! वो आपके वालिद थे। आजकल वे कहाँ हैं ?

मो.इलियास – सर ! अब रिटायर हो कर वे गाँव में ख़ानदानी ज़मीन–ज़ायदाद की देखभाल कर रहे हैं।

र.सेठी – हाँ ! मि.इलियास उन्हीं के लायक बेटे हैं। इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा लखनऊ में पूरी की और इसके बाद आई.आई .टी. मुंबई से इंज़ीनियरिंग की। आपका प्रोडक्शन लाइन में अनुभव पंद्रह वर्ष से भी अधिक का है।

अ.शर्मा – तो आप कब जॉयन कर रहे हैं मि. इलियास?

मो.इलियास – अगले महीने की पहली तारीख़ से सर !

र.सेठी – आपकी पत्नी भी तो खासी पढ़ी-लिखी हैं।  सुना है एम.बी.ए. हैं लखनऊ विश्वविद्यालय से?

अ.शर्मा – क्या वह भी वर्किंग हैं ?

मो..इलियास –नहीं सर ! वह एक गृहिणी है और घर और बच्चों की देखभाल में व्यस्त रहती है।

अ.शर्मा –आजकल घर और बच्चों की देखभाल भी फ़ुलटाइम जॉब है।

र. सेठी – फ़ुलटाइम से भी ज़्यादा।

            (यह कहकर तीनों हँसते हैं )

अ.शर्मा- आपसे मिलकर अच्छा लगा मि. इलियास।

मो.इलियास – मुझे भी बहुत अच्छा लगा सर ! मैं भविष्य में आपके सहयोग की आशा रखता हूँ।

र.सेठी – आपको सबका सहयोग मिलेगा। आप बेफ़िक्र होकर जॉयन करें।

मो.इलियास – इजाज़त दें सर।

    ( मो.इलियास दोनों से हाथ मिलाकर ऑफ़िस से बाहर निकल जाते हैं )

Glossary

( shabdkosh.com is a link for an onine H-E and E-H dictionary for additional help)

अभिवादन करना to greet
किस्सा m कहानी f, story
चर्चा f mention, discussion
ठहाका मार कर हँसना to burst into laughter
व्यावसायिक जगत m कारोबारी दुनिया f, business world
प्रयोग m इस्तेमाल m, use
मंद–मंद mildly
मुस्कुराना to smile
प्रतिभावान talented
ताल्लुक m संबंध m, relation, connection
नामी प्रसिद्ध, मशहूर, famous
ख़ानदान m extended family
विशिष्ट ख़ास, special
पुरस्कार m इनाम m, prize
वालिद m पिता m, father
पद्मभूषण m (name of a high level award from Govt. of India)
ज़मीन–ज़ायदाद f real-estate
देखभाल करना to take care of
विश्वविद्यालय m university
गृहिणी f home-maker
व्यस्त मसरूफ़, busy
भविष्य m future
सहयोग m cooperation
बेफ़िक्र निश्चिंत, without worry

Structural Review

1. Abbreviated Form The primary unit of the Devanagari script is the syllable, not letter. Hence a word like मोहम्मद is to be abbreviated as मो. and not  म.
2. Primacy of Usage

 

 

Usage is more important than grammatical purity. For example, see the vocative English word सर in the dialogue. Although its Hindi equivalent श्रीमन् does exist and is often used in formal written style, the English word सर has gained currency in the spoken style. The use of श्रीमन् may not be natural in these contexts.
3. Respectful Plural

 

 

Plural forms are also used to mark respect.  See many examples here where the plural form is used for one person. इनसे मिलिए। ये हैं मि. मोहम्मद इलियास, मो.इलियास ……अभिवादन करते हैं, आपसे मिलकर. Here ये हैं, करते हैं, आप are grammaticaly plural forms used for one person to indicate respect.
4.  

व्यावसायिक

 

Derived from व्यवसाय+इक, व्यावसायिक is the correct spelling, although many speak and write व्यवसायिक. Similar is the situation with many other words formed with the suffix इक, such as प्राशासनिक/प्रशासनिक, व्यापारिक/व्यपारिक.   
5. Mixed Language

 

 

Mixing English and Hindi (codeswitching) has become the norm in India. This can occur at the word level, phrase level and sentence/s level.

Some words like वर्किंग, जॉब, जॉयन for which we do not have good Hindi equivalents, have become a part of Hindi usage and sound natural in modern business contexts.

6. Over-correction

 

The standard form is जायदाद, not ज़ायदाद. Since ज़ and फ़ are socially more prestigious sounds, they are sometimes over-used in place of sounds ज or फ.

Cultural Notes

1. Hierarchy and Humor In formal contexts, humor may be directed towards juniors from their seniors but the reverse is rare. However, in modern business contexts, one is beginning to see a change toward egalitarianism.
2. पद्मभूषण

 

This is a high ranking civilian honor awarded by the President of India on Republic Day for notable contributions. भारतरत्न, पद्मविभूषण and पद्मश्री are similar awards.
3. Greetings and Saying Good-bye

 

Deciding when to shake hands and when to greet others with folded hands is somewhat tricky. Shaking hands often implies equality whereas folded hands on the part of a junior or senior person implies humility. One also has to keep in mind the context of the interaction (traditional-Indian/contemporary-Western)
4. Parting/saying Good-bye

 

In formal contexts, humor may be directed towards juniors from their seniors but the reverse is rare. However, in modern business contexts, one is beginning to see a change toward egalitarianism.
5. आपका प्रोडक्शन लाइन में अनुभव पंद्रह वर्ष से भी अधिक का है। Although is a second person pronoun it is sometime used to refer to a third person which connotes respect.

Practice Activities (all responses should be in Hindi)

1. Although Mohd. Illiyas is treating Mr. Sethi and Mr. Sharma as his superiors, the latter two are interacting with the former at an almost equal level. Do you agree with this statement? If you do, what are the clues that would suggest such a conclusion? If you do not agree, give your reasons.
2. Why are Indian employers interested in the family background of the interviewees? Try to give a couple of reasons from the Indian point of view. How do you view this line of thinking from an American point of view?
3. आप उन्हीं के सबसे छोटे बेटे हैं।

Obviously, the use of plural forms here is for expressing respect. Now, use a similar structure for a woman and see how the same rule works a little differently in the case of women.

4. आप बेफ़िक्र होकर जॉयन करें

Can you think of a way to express the same meaning without using the English word जॉयन?

5. Give synonyms for the following:

प्रतिभावान, अभिवादन करना, नामी, ख़ानदान, अनुभव, तारीख़, व्यस्त, बेफ़िक्र

Comprehension Questions

1.What is the overall tone of the conversation?

a. Very friendly

b. informal

c. semi-formal

d. formal

2.What is the role of  Mr. ilias as suggested by the conversation?

a. He is a staff member in the company.

b. He represents another company.

c. He is being interviewed for a job.

d. He is newly appointed in the company.

c. Introducing an organization

Module 2.3

 

            परिचय

(Introduction)­­­

 

संस्था का परिचय

Introducing  an Organization

Text Level

 

Intermediate High

Modes

Interactive

Interpretive

 

What will students know and be able to do after completing this unit?

Introducing an organization in an corporate style


Text

(भारती एयरटेल कंपनी के नवनियुक्त मार्केटिंग कर्मचारियों को कंपनी का परिचय करवाने के लिए एक परिचय-समारोह के आयोजन में जनसंपर्क अधिकारी मुकुल श्रीवास्तव और अन्य)

मु.श्रीवास्तव – हैलो !  मैं मुकुल श्रीवास्तव इस कंपनी का पब्लिक रिलेशन ऑफ़िसर आप सभी का भारती एयरटेल में स्वागत करता हूँ।

सभी न.नि.मा.कर्मचारी- (एक स्वर में) नमस्कार सर !

मु.श्रीवास्तव नमस्कार ! अब आपको इस  कंपनी की सामान्य जानकारी और परिचय हमारे जी.एम. वेदप्रकाश अरोड़ा जी से मिलेगी।

(श्री वेद प्रकाश अरोड़ा अपनी कुर्सी से उठकर मंच पर लगे माइक की ओर बढ़ते हैं और सभी नव-नियुक्त कर्मचारी तालियों से उन का स्वागत करते हैं)

वे.प्र. अरोड़ा – हैलो ! आप सभी नए लोगों का इस एयरटेल परिवार में स्वागत है जिसके आज से आप सभी सदस्य हैं। मोबाइल दूर संचार के क्षेत्र में यह भारत की अग्रणी कंपनी मानी जाती है। इसकी कुल ग्राहक संख्या ग्यारह करोड़ से भी अधिक है जो भारत सरकार की मोबाइल कंपनी बी.एस.एन.एल. व एम.टी.एन. एल. की कुल उपभोक्ताओं से भी कहीं अधिक है।

          (सभी श्रोता तालियाँ बजाते हैं )

 लेकिन यह बढ़त निरंतर बनी रहे इसकी ज़िम्मेदारी भी आपके मज़बूत कंधों पर है। आप में से कितने लोग चाहते हैं कि हम इस प्रथम पायदान पर बने रहें !

     (सभी उपस्थित श्रोता हाथ उठाकर एक स्वर में अपना समर्थन करते हैं)

वाह !  इससे यह साबित हो गया कि हम सब इस कंपनी को नंबर एक बनाने पर सहमत हैं।

मु.श्रीवास्तव  – एक सवाल मैं पूछना चाहूँगा। क्या आप में से कोई  इस कंपनी के संस्थापक का नाम जानते हैं?

       (लगभग सभी हाथ उठाकर उत्तर देने को तत्पर होते हैं। एक युवती की ओर इशारा करते हुए)

मैडम ! आप बताइए 

सुकन्या – सर! क्या मुझसे पूछ रहे हैं?

मु.श्रीवास्तव  – जी हाँ ! आपसे ही मुखातिब हूँ। क्या नाम है आपका?

सुकन्या  – सर सुकन्या ! एयरटेल  के संस्थापक का नाम श्री सुनील मित्तल है।

            (सारे लोग ताली बजाते हैं)

मु.श्रीवास्तव – अरोड़ा जी आप आगे बढ़ें ! 

 वे.प्र. अरोड़ा – सही है। बैठ जाएँ। कोई और यह बताए कि श्री मित्तल किस राज्य से संबंध रखते हैं?      

              (कुछ ही हाथ उठते हैं)

आखिरी पंक्ति में जो सरदार जी हैं वे बताएँ।

श्री परमिंदर – (उठते हुए ) पंजाब दे ने।

       (सभी  हँस पड़ते हैं )

वे.प्र. अरोड़ा – सही कहा। लेकिन जनाब, आपका परिचय भी हो जाए।

श्री परमिंदर – सर ! मेरा नाम परमिंदर सिंह है  मैं पटियाला से आया हूँ।

वे.प्र. अरोड़ा – बैठिए मि. सिंह। हाँ तो यह था इस कंपनी में आपका स्वागत और हमारे कार्यक्षेत्र का संक्षिप्त परिचय। हाँ, यहाँ यह भी बताना उचित होगा कि एयरटेल की कंपनी का मोबाइल विंग जिसमें आप की नियुक्ति हुई है, उसके अलावा एयरटेल ब्रॉडबैंड, डी.टी.एच. एवं एक्सा के साथ जीवन-बीमा क्षेत्र में भी कदम रख रही है। कुल मिलाकर आप एक ऐसी कंपनी के अंग हैं जोकि एक ट्रांसनेशनल कंपनी के रूप में विश्व में अपना स्थान बना चुकी है।

           (सभी उत्साहित होकर ताली बजाते हैं) 

अंत में मैं श्री मुकुल श्रीवास्तव जी को भी धन्यवाद देता हूँ जिन्होंने मुझे आपसे मिलने और आपका स्वागत करने का सुनहरा मौका दिया। एक बार फिर से आप सब का स्वागत है।

Glossary

( shabdkosh.com is a link for an onine H-E and E-H dictionary for additional help)

कर्मचारी m employee
समारोह m event
नव-नियुक्त newly appointed
स्वागत m welcome
जानकारी f सूचना f, information
तालियां f Clapping, applause
अग्रणी leading
उपभोक्ता m consumer
पायदान m doormat, rank
समर्थन m support
सहमत in agreement, consentient
संस्थापक founder
मुख़ातिब one who is addressing someone
कार्यक्षेत्र m work field
उत्साहित होना to be excited/encouraged
सुनहरा मौका m स्वर्णिम अवसर m, golden opportunity

Structural Review

1. मार्केटिंग, पब्लिक रिलेशन ऑफ़िसर, हैलो, माइक, मोबाइल विंग, ब्रॉडबैंड, ट्रांसनेशनल कंपनी For पब्लिक रिलेशन ऑफ़िसर, Hindi equivalent is used in this unit – जनसंपर्क अधिकारी. For माइक, ध्वनिवर्धक यंत्र is occasionally used, but only in the written mode while in spoken Hindi, there is no equivalent. For ट्रांसनेशनल, पारदेशी would be possible, but it does not occur. For company one could have suggested उद्योग but that word is already in use in the sense of ‘industry’. So, it seems that some English words have no Hindi equivalent and are quite suitable in the given contexts.
2. एक सवाल मैं पूछना चाहूँगा

 

(want to V) = Verb infinitive + चाहना is a structure where the verb infinitive component stays in the masculine singular form and the second component चाहना is conjugated in the appropriate tense, number and gender.
3. उत्तर देने को तत्पर होते हैं

 

 

The postposition को is used in a variety of meanings and grammatical functions. It can be used as a direct object marker, indirect object marker, subject marker in dative constructions, and also in the sense of के लिए with infinitives in the spoken style.
4. आपसे ही मुखातिब हूँ।

 

 

The subject मैं is left understood here. In Hindi, the subject can be left understood if it is retrievable from the context. This is a big difference from English where the subject is indispensable except in imperative senences.
5. ताली बजाते हैं, हाथ उठाते हैं

 

 

Although structurally such constructions are known as ‘habitual’ constructions, their meaning in two specific conexts is not habitual. The current usage in this unit is theatrical direction and in such contexts the meaning is always non-habitual. Also, in some verbs of motion, habitual constructions are used in the near future sense, e.g., मैं अभी आता हूं.

Cultural Notes

1. पंजाब दे ने

 

 

This is a Panjabi expression equivalent to the Hindi expression पंजाब के हैं. Panjab is a north-western state of India and its people are considered to be fun-loving people. The use of Panjabi is often sprinkled in Hindi movies to contribute towards humor.
2. Acronyms Acronyms are often generated in English – जी.एम., बी.एस.एन.एल., एम.टी.एन. एल.. डी.टी.एच. Hindi Acronyms are not as common.

Some examples of acronyms in Hindi are भाजपा= भारतीय जनता पार्टी, नमो= नरेन्द्र मोदी, सपा=समाजवादी पार्टी

3. जनाब, आपका परिचय भी हो जाए

 

 

The literal meaning of जनाब is ‘sir’ but its extended use in Hindi with different intonations has created a semantic shift in some contexts. In informal contexts it adds a touch of humor among equals and a sarcastic note when addressed to juniors.

Practice Activities (all responses should be in Hindi)

1. Summarize the proceedings of this event where Mr. Arora presented a brief introduction of the company.
2. If you were in the place of Mr. Ved Arora, what else you would have liked to tell about the company?
3. What questions would you have liked to ask if you had been in the audience?
4. श्री परमिंदर – (उठते हुए ) पंजाब दे ने।

Why did he speak Panjabi at such a formal meeting? What’s your opinion? Support your answer  with some reasons.

5. जनाब ! आपका परिचय भी हो जाए

What type of construction is this and how one can say the same thing in a different way in Hindi?

Comprehension Questions

1. What is true of the Bharti Airtell according to the text?

a. It is one of the leading companies in the telecom business.

b. It is the leading company in comparison to its competitors.

c. It has the goal to be one of the leading companies in the telecome business.

d. it ihas he goal to be the leading company in telecome business.

2.Which of the following describes the purpose of the meeting?

a. to welcome the newly appointed staff members

b. to have a session where everyone introduces  himself/herself

c. to apprise everyone about the goals of the company

d. to get to know about the new members in an informal setting.

d. Introducing a product

Module 2.4

 

            परिचय

(Introduction)­­­

 

उत्पाद का परिचय

Introducing a Product

Text Level

 

Intermediate High

Modes

Interactive

Interpretive

 

What will students know and be able to do after completing this unit?

Introducing a company product in a positive and professional manner


Text

(नोकिया इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के नए मॉडल एम.2700 को बाज़ार में लांच किया जा रहा है। नए मॉडल की विशेषताएँ और जानकारी  देने के लिए एक प्रेस-वार्ता का आयोजन किया गया है जिसमें कंपनी की नेशनल मार्केटिंग हेड श्रीमती सुनीता शाह यह कार्य करेंगी)

सु.शाह –यहाँ उपस्थित सभी सज्जनों को मेरा यानी सुनीता शाह का नमस्कार।

सभी पत्रकार  – नमस्कार।

(कुछ पत्रकार अपने माइक को अपने सामने लगा लेते हैं तो कुछ अपने कैमरे को कार्यक्रम के चित्र लेने के लिए फ़ोकस करते हैं)

सु.शाह –जैसे मैंने अभी आपको बताया कि मैं हूँ सुनीता शाह, नोकिया इंडिया की मार्केटिंग हेड। मैं आप सबका इस प्रेस-वार्ता में स्वागत करती हूँ। नोकिया ने मोबाइल फ़ोन्स के निर्माण में भारत में जो शुरुआती बढ़त बनाई थी वह न सिर्फ़ आज तक जारी है बल्कि हम में और हमारे प्रतियोगियों में निरंतर अंतर बढ़ता जा  रहा है। यह भारत भर में फैले हमारे ग्राहकों के हमारे उत्पादों के प्रति बढ़ते विश्वास का ही प्रतीक नहीं है बल्कि इसमें हमारे विज्ञापन एवं मार्केटिंग नेटवर्क का भी महत्वपूर्ण योगदान है।

एक पत्रकार – मिसेज़ शाह, हम तो आपके इस नए प्रोडक्ट के बारे में जानने को उत्सुक हैं। आप तो बस इसकी खूबियाँ गिनाइए।    

सु.शाह – हाँ हाँ ! हम उसी पर आ रहे हैं। आप तो जानते ही हैं कि नोकिया के सारे उत्पाद भारतीय परिस्थितियों को ध्यान में रख कर ही बनाए जाते हैं। मूल्य ऐसा रखा जाता है कि उपभोक्ता की जेब पर ज़्यादा बोझ न पड़े। कम मूल्य पर भी उपभोक्ता को वह सभी सुविधाएँ देने का प्रयास किया जाता है जिनकी आज के उपभोक्ता को ज़रूरत है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारे सारे उत्पादों की  लाइफ़ बहुत होती है अर्थात सही ढंग से उपयोग करने पर ये अमूमन अन्य मोबाइल्स के मुकाबले तीन से चार गुना ज़्यादा चलते हैं। बैटरी बैकअप भी औरों के मुकाबले ज़्यादा है। और तो और, किसी भी प्रकार की ख़ामियों को दूर करने के लिए देश भर में हमारे सर्विस-सेंटरों का ऐसा नेटवर्क है कि ग्राहक को शिकायत का मौका ही नहीं मिलता।

एक पत्रकार – मैडम ! ये तो सारी सामान्य जानकारी है। आपके इस नए मॉडल एम.2700 में ख़ास क्या बात है?

सु.शाह – मैं उसी पर आ रही थी । देखिए, आप यह तो जानते ही हैं कि मोबाइल फ़ोन्स की दुनिया में रोज़ नई तकनीक दस्तक दे रही है। ऐसे में जो कंपनी हर नई तकनीक के बदलाव के साथ खुद को नहीं बदलेगी उसे ग्राहकों का प्यार और विश्वास नहीं मिल पाएगा। ऐसी ही बदली हुई तक़नीकों का संगम है हमारा नया मॉडल एम.2700। यह बेहद हल्का सेट है जिसका वज़न है मात्र 200 ग्राम से भी कम। इसका बैटरी बैकअप है 72 घंटों का। इसमें एफ़.एम.रेडियो सुनने की भी सुविधा है। साथ ही 1 32 एम.बी. की आंतरिक मैमरी है, 2 जी.बी. की बाहरी मैमरी,  ब्ल्यूटूथ और 3 जी जैसी आधुनिक सुविधाओं से युक्त है। इसमें 5 पिक्सल का कैमरा लगा हुआ है। इससे 1 घंटे की वीडियो रिकॉर्डिंग संभव है और तो और इंटरनेट का भी सारा काम चलतेफिरते संभव है।

एक पत्रकार –  सच, यह तो भानुमती  का पिटारा ही है।

एक अन्य पत्रकार- वो तो ठीक है मैडम ! पर इस  पिटारे की कीमत कितनी है ?

सु.शाह- चलिए , आप ही अनुमान लगाइए।

एक पत्रकार – मेरे ख्याल से 10000/ से 15000/ के बीच होगा।

सु.शाह- नहीं जनाब ! सारी सुविधाओं से युक्त यह मॉडल आपको पड़ेगा सिर्फ 7500/ में और मिलेगी नोकिया की विश्वसनीय सर्विस। है न सोने पे सुहागा।

एक अन्य पत्रकार- क्या अन्य उत्पादों की तरह इस पर भी एक साल की वारंटी है?

सु.शाह- जी हाँ ! और कोई बात मन में हो तो पूछिए।

      (किसी भी पत्रकार द्वारा प्रश्न न पूछे जाने पर )

हाँ , आप लोग जाने से पहले अपने गिफ़्ट अवश्य लेते जाएँ।        

एक पत्रकार – क्या है मैडम, कहीं इसमें भी नया मॉडल ही तो नहीं निकलेगा।

सु.शाह – अब यह तो राज़ है। खुलने पर ही पता चलेगा। आप सब के जलपान का की व्यवस्था बाहर लॉबी में है। अंत में इस अवसर पर आप सब के सहयोग के लिए कंपनी की ओर से धन्यवाद !

Glossary

( shabdkosh.com is a link for an onine H-E and E-H dictionary for additional help)

विशेषता f ख़ासियत f, special characteristic
शुरुआती बढ़त f initial lead
प्रतियोगी m/f प्रतिद्वंद्वी m/f, competitor
उत्पाद m product
दस्तक देना to knock
आंतरिक अंदरूनी, internal
भानुमती  का पिटारा (idiom) a chest of various articles
सोने पे सुहागा (idiom) additional specialty, like icing on the cake

Structural Review

1. English words with no known Hindi equivalents प्राइवेट, लिमिटेड, कंपनी, लांच, मॉडल, मार्केटिंग, कैमरा, फ़ोकस, नेटवर्क, मोबाइल, फ़ोन, बैटरी बैकअप, मैमरी, ब्ल्यूटूथ, पिक्सल, एफ़.एम.रेडियो, वीडियो, रिकॉर्डिंग, वारंटी, सर्विस-सेंटर
2. Recent coinages प्रेस-वार्ता, उत्पाद, तकनीक
3. Hindi idioms

 

भानुमती  का पिटारा –  a basket of sundry articles

सोने पे सुहागा – additional advantage, icing on the cake

4. कम मूल्य पर भी उपभोक्ता को वह सभी सुविधाएँ देने का प्रयास किया जाता है Passive constructions are used when the focus is on the object and the agent is left out. Structurally, passive forms are formed with the main verb in the perfective form (किया) followed by the passive marker जाना in the appropriate tense (जाता है).

 

Perfective forms are made with a verb stem plus (with stems ending in a consonant) or या (with stems ending in a vowel) added to it. Some verbs like करना have a regular form (करा) in colloquial style and a slightly irregular form किया as standard usage.

Cultural Notes

1. Use of idioms

 

The use of idioms like भानुमती का पिटारा and सोने पे सुहागा enriches meaning with minimum words.
2. Humor

 

एक पत्रकार – क्या है मैडम, कहीं इसमें भी नया मॉडल ही तो नहीं निकलेगा।

सु.शाह – अब यह तो राज़ है। खुलने पर ही पता चलेगा।

Most people are creative in using a humorous comment in their native language. With second language learners, it comes a little later with deeper immersion in the target language.

3. Use of breadth of vocabulary

 

Educated native speakers usually have a wide breadth of vocabulary in their language, which enables them to introduce many shades of meaning effortlessly.

Practice Activities (all responses should be in Hindi)

1. How will you say the word लाइफ़ in the same context?

हमारे सारे उत्पादों की लाइफ़ बहुत होती है

2. What is more important for a company’s success – good will, product, or marketing strategies? Give reasons in support of your answer.
3. Let’s use all our linguistic resources to see if it is possible to express the following in Hindi.

मार्केटिंग हेड, नेटवर्क, बैटरी बैकअप, मैमरी, वीडियो रिकॉर्डिंग, मॉडल, इंटरनेट, पिक्सल, कैमरा, लॉबी

4. The two words “warranty” and “guarantee” are not totally synonymous. Let’s think of a couple of contexts where one can be used but not the other.
5. Create two sentences where you can use these two idioms – भानुमती का पिटारा, सोने पे सुहागा.

Comprehension Questions

1. The company officer is more interested in telling about

a. the company’s success stories

b. a specific product

c. multiple products

6. the company’s new products

2.What is the overall attitude of the journalists attending the press conference?

a. receptive

b. probing

c. skeptical

d. reserved

Skip to toolbar