Skip to toolbar

Module 3

Previous | Next

Module Three – Building Business Relationships 

व्यावसायिक संबंध बनाना

Building Business Relationship

a. Meeting for a cup of tea/coffee

Module 3.1        

व्यावसायिक संबंध

Business Relations

 

 

चाय  पर व्यावसायिक चर्चा

Business Talk over a Cup  of Tea

Text Level

 

Intermediate High

Modes

Interpersonal

Interpretive

 

What will students know and be able to do at the end of this lesson?

Extending hospitality and paying compliments in culturally appropriate ways

Text

(होटल मरीना में एक अंतर्राष्ट्रीय शू-फेयर लगा हुआ है जिसमें दुनिया के कोनेकोने से शू-निर्माता, मशीनों  और अन्य संबद्ध उपयोगी वस्तुओं के सप्लायर्स हिस्सा ले रहे हैं। आगरा के प्रमुख जूता व्यवसायी श्री पूरन डावर अपने स्टॉल पर खड़े हैं तभी अहमदाबाद के एक मशीन सप्लायर श्री वीरेन शाह उनके पास आकर अपना परिचय देते हैं)

वीरेन शाह – नमस्कार सर!  मैं वीरेन शाह हूँ अहमदाबाद से। मैं भी इस व्यापार मेले में हिस्सा ले रहा हूँ।

पू.डावर –अच्छा!  आपका स्टॉल कौनसा है?

वी. शाह – सर! स्टॉल नंबर 27। रीजेंट नंबर 1 में।

पू.डावर- क्या बनाते हैं आप?

वी. शाह-सर!  मैं अपर स्टिचिंग की मशीन बनाता हूँ।

पू.डावर – क्या खासियत है इसकी ?

वी. शाह-सर! आप खुद ही चल कर देख लीजिए।

पू.डावर –ज़रूर चलता, पर अभी मैं किसी खास आदमी का इंतज़ार कर रहा हूँ। ठीक समझें तो अपने मशीन की विशेषताएँ यहीं बता दें। समय मिलते ही मैं आप के स्टॉल आऊँगा।

वी.शाह – सर! हमारी मशीनें—

पू.डावर – अरे! आप खड़े क्यों हैं मिस्टर शाह! आइए , यहाँ बैठ कर बातें करते हैं।

(दोनों वहाँ रखी कुरसियों पर बैठ जाते हैं)

वी. शाह – धन्यवाद सर

पू.डावर – भई !  क्या लोगे चाय या कॉफ़ी?

वी. शाह – इसकी कोई ज़रूरत नहीं।

पू.डावर – अरे, नहीं! कुछ तो लो। 

वी. शाह – तो सर ! कॉफ़ी —

पू.डावर –अरे रितेश ! ज़रा ज़ल्दी से दो-तीन कॉफी  के लिए कह देना और हाँ, हम लोग आगरे से जो पेठा और दालमोठ लाएँ हैं न वो भी लेते आना ।

वी. शाह- सर! माफ़ कीजिए ! आपको मेरे कारण इतनी तक़लीफ उठानी पड़ रही है —

पू.डावर – नहीं,नहीं! मुझे तो नई पीढ़ी के साथ बात करना अच्छा लगता है। और सच पूछो तो आगे सब कुछ आप सब को ही तो संभालना होगा। है न !

वी.शाह – पर बड़े–बुज़ुर्गों के अनुभव और आशीर्वाद  हमेशा मिलते रहने से एक तरह की शक्ति मिलती है।

पू.डावर- वास्तव में अब भी कुछ संस्कारी परिवार अपने  नौजवानों को इस तरह के संस्कार दे रहे हैं ।

(कॉफ़ी और जल-पान का सामान आता है)

पू.शाह – लो, शुरू करो।

वी. शाह – सर! आप नहीं लेंगे?

पू.डावर – नहीं , सुबह से कई कप चाय  हो चुकी है । आओ रितेश, तुम साथ दो।

रितेश- मैंने भी अभी दस मिनट पहले ही ली है। पर साथ देने के लिए फिर एक बार सही।

(वीरेन शाह और रितेश चाय पीते हैं )

पू.शाह-तो आप अपनी मशीन के बारे में कुछ बताने जा रहे थे।

वी. शाह- सर! हमारी मशीन पूरी तरह स्वचालित मतलब ऑटोमेटिक है और एक साथ 500 जोड़ी यानी 1000 अपर्स को स्टिच कर सकती है ।

पू.डावर – वाह! ये तो हमारे काम की मशीन लग रही है। मौका मिलते ही एक बार अवश्य देखूँगा। अरे! तुमने पेठा तो चखा ही नहीं। केसरी पेठा है।

वी. शाह – (पेठे का एक टुकड़ा उठाते हुए) मीठा तो मेरी कमज़ोरी है।

रितेश – सर! आगरे की दालमोठ का भी जवाब नहीं। देखा जाए तो आगरे के  पेठे और दालमोठ दोनों का ही दूर-दूर तक नाम है। जूते का नंबर इसके बाद आता है।

पू.डावर – मैं तुम्हारी इस मशीन के बारे में अपने साथियों से भी चर्चा करूँगा।

वी. शाह- सिर्फ बात नहीं सर! सिफारिश भी करनी होगी। एक बार आप खुद देख लें तो मेरा आधा काम तो बन ही जाएगा।

रितेश – सर! ये अब आप को छोड़ने वाले नहीं हैं। आपको अपनी मशीन दिखाकर ही मानेंगे।

पू.डावर- अरे! जब सुन कर ही इतना उत्साह आ गया तो देखकर तो जाने क्या होगा! वैसे फेयर में मशीन भी लाएँ हैं या अभी केवल डेमोवीडियो ही है।

वी. शाह- नहीं,नहीं सर! स्टॉल पर मशीन देखें साथ में उसकी कार्य क्षमता की भी तसल्ली कर लें। मेरे पहली मशीन तो आप के यहाँ ही जाएगी इसका मुझे पूरा विश्वास है।

पू.डावर – आप बढ़िया सेल्समैन हैं इसमें कोई शक नहीं ।

(तभी एक अन्य सज्जन आ कर पूरन डावर को नमस्ते करते हैं)

मुझे अब जाना होगा।

वी. शाह – सर! मशीन देखने आना भूलिएगा नहीं।

पू.डावर- हाँ हाँ ! ज़रूर आऊँगा।

वी.शाह – नमस्ते सर ! आपसे मिलकर बहुत अच्छा लगा।

(पूरन डावर और नवागंतुक निकल जाते हैं और वीरेन शाह अपने स्टॉल की ओर बढ़ जाते हैं)

Glossary

( shabdkosh.com is a link for an onine H-E and E-H dictionary for additional help)

अंतर्राष्ट्रीय

अंतरराष्ट्रीय, international

संबद्ध

संबंधित, related

खासियत f

विशेषता f, विशिष्टता f, वैशिष्ट्य m, specialty

भई, अरे

(informal address forms for anyone)

तक़लीफ f

कष्ट m, trouble

बुज़ुर्ग m

elderly person

अनुभव m

तजुर्बा m, experience

आशीर्वाद m

blessing

संस्कारी परिवार m

family or families with good elements of culture

जवाब न होना

to have no equal

चर्चा करना

to mention, discuss

सिफ़ारिश f

recommendation

नवागंतुक m

new-comer

Structural Review

1.

Synonyms

अंतर्राष्ट्रीय, संबद्ध, नमस्कार, हिस्सा, व्यापार, मशीन and many others in this unit have synonyms अन्तरराष्ट्रीय, संबंधित, नमस्ते, भाग, व्यवसाय, यंत्र. While some forms have contextualized nuances, others are personal preferences of individual speakers.

(मैं) ज़रूर चलता

 

This is a hypothetical/contrary to fact construction. Such constructions always use the ता/ते/ती ending without any tense marker (है/हैं/था/थे/थी, etc.). Its meaning is equivalent to ‘I would have certainly gone if …..

3.

समय मिलते ही

 

 

This is a very productive construction for all verbs. Examples: मिलते ही, आते ही, जाते ही, बोलते ही, देखते ही, etc. . It works as an adverb and the meaning is – as soon as (he/she) met/came/went/spoke, saw, etc.

4.

(आपको) सिफारिश भी करनी होगी

This is a ‘have to’ construction without the implication of any compulsion. In this construction, the subject is always followed by को and the verb phrase takes the infinitive form with the appropriate tense marker (हैं/हैं/था/थे/थी/होगा/होंगे/होगी)

5.

सर! ये अब आप को छोड़ने वाले नहीं हैं। आपको अपनी मशीन दिखाकर ही मानेंगे

This is an interesting blend of formal and informal styles, which is a reflection of an semi-formal relationship between the two interlocutors.

 

Cultural Notes

1.

बड़ेबुज़ुर्गों के अनुभव और आशीर्वाद  हमेशा मिलते रहने से एक तरह की शक्ति मिलती है।

Age and experience are respected in Indian society and such respect is verbalized in various ways.

2.

दालमोठ, पेठा

 

 

दालमोठ is a savory snack made from a type of lentils, and पेठा is a type of dessert made from white ash gourd (a kind of squash) dipped in sugar syrup.

Practice Activities (all responses should be in Hindi)

1.

What’s the role of socialization in business?

2.

Which elements in this unit are not to be found in an American conversation in a similar context?

3.

Role-play a similar dialogue. Let one interlocutor be an American and the other a traditional Indian and adapt the dialogue accordingly.

4.

In this unit, one interlocutor is senior in status and/or older in age. Point out the clues that support this statement.

5.

ये अब आप को छोड़ने वाले नहीं हैं

Construct three sentences illustrating similar usage of वाला.

6.

मशीन देखने आना भूलिएगा नहीं

What is the subject of this sentence?

Why is देखने in the oblique case here?

If we replace the imperative form देखिएगा with देखिए or देखना what difference would it make in the meaning?

Comprehension Questions

1.How long have Mr. Shah and Mr. Davar known each other? What is your best guess based on the above conversation?

            a. They have known each other for a long time.

            b. They have known of each other for a long time.

            c. They came to know about each other in the fair.

            d. There is no indication about this in the text.

2.Who is Ritesh?

a. Mr. Shah’s friend

b. Mr. Dawar’s friend

c. Their common friend

d. Who knows?