Skip to toolbar

Module 8

Previous | Next

Module Eight – Business Headlines

व्यावसायिक सुर्खियां

Business Headlines

a. Business Headlines – type A

Module  8.1

 

व्यावसायिक समाचार

Business News

 

 

अंतर्राष्ट्रीय समाचार

International News

Text Level

Advanced

Mode

Interpretive

 

What will students know and be able to do at the end of this lesson?

Understanding the distinctiveness of the idiom and reporting style of Hindi media

Text

26/11 के बावजूद भारत में बढ़ी है सैलानियों की दिलचस्पी

वैश्विक मंदी और आतंकवादी हमले ने देश के पर्यटन की रफ्तार तो थामी, लेकिन विदेशियों का भरोसा अभी हिंदुस्तान से नहीं उठा है । तमाम ब्रेकरों के बावजूद पर्यटकों की संख्या और पर्यटन कारोबार फिर पिछले सालों से आगे निकल गया ।  खास बात है कि नवंबर में मुंबई हमले के बाद दिसंबर में पिछले माह की तुलना में विदेशी पर्यटकों की संख्या बढ़ी थी । प्रमुख हवाई अड्डों से मिले आंकड़ों के मुताबिक पिछले सालों की तुलना में अगले वर्ष भी दो लाख ज्यादा विदेशी पर्यटक आए ।  संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ) ने 2008 दुनिया भर में पर्यटन कारोबार दो से तीन फीसदी बढ़ने का अनुमान लगाया था । भारत ने उस अनुमान को भी पीछे छोड़ दिया ।  तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद दुनिया के औसत से करीब दो गुना यानी साढ़े पांच फीसदी ज्यादा पर्यटक यहां आए ।

2007 के करीब 51 लाख 80 हजार पर्यटकों के मुकाबले 53 लाख 70 हजार पर्यटक आए । यद्यपि यह अपेक्षा से काफी कम है, लेकिन मंदी और आतंक के मद्देनजर केंद्र सरकार इसे भी काफी उत्साहजनक मान रही है ।
पर्यटन मंत्रालय को सबसे ज्यादा संतोष इस बात से है कि नवंबर के आखिर में मुंबई में हमला हुआ । इसके बाद बड़े पैमाने पर पूरे देश में विदेशी पर्यटकों ने अपनी बुकिंग रद्द करवाईं । इसके बावजूद नवंबर की तुलना में दिसंबर में एक लाख अधिक विदेशी पर्यटक हिंदुस्तान आए । उससे अगले साल नवंबर में जहां 5.21 लाख पर्यटक आए थे तो वहीं दिसंबर में 5.22 लाख । पिछले वर्ष की तुलना में व्यापार भी बढ़ा ही। कई अन्य विकसित देशों की तरह कम तो नहीं हुआ । 2007 वर्ष में 44 हजार 360 करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा आई थी तो 2008 में 50 हजार 730 करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा आई ।

गूगल से भिड़ेंगे माइक्रोसाफ्ट व याहू

दुनिया की दिग्गज साफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसाफ्ट और अग्रणी इंटरनेट कंपनी याहू ने इंटरनेट सर्च तथा विज्ञापन के क्षेत्र में हाथ मिलाया है । दोनों कंपनियों का यह गठजोड़ इंटरनेट सर्च के दिग्गज बादशाह गूगल को चुनौती देगा । दोनों कंपनियों ने इसके लिए 10 वर्षीय करार किया है । इस समझौते के तहत माइक्रोसाफ्ट को याहू की प्रमुख सर्च टेक्नोलाजी का दस साल के लिए विशेष लाइसेंस मिल जाएगा । इसका मतलब यह हुआ कि माइक्रोसाफ्ट का नया सर्च इंजन बिंग इसके जरिए विज्ञापनदाताओं को लुभाने में सक्षम होगा । दोनों कंपनियों के बीच इस तरह के समझौते की लंबे समय से अटकलें थीं । कुछ साल पहले तक याहू के पूर्व सीईओ जेरी यंग के चलते माइक्रोसाफ्ट के साथ इंटरनेट कंपनी का सौदा नहीं हो पाया था । माइक्रोसाफ्ट पिछले साल याहू को खरीदना चाहती थी, लेकिन सौदे की महंगी कीमत के चलते पीछे हट गई थी   ।

गांव की पगडंडियों पर चढ़ा इनफॉर्मेशन हाई-वे

इंटरनेट और कंप्यूटर आज गांव देहात के किसानों से उनकी अपनी भाषा में मुखातिब है । अब इसे तकनीक का दबाव कहिए या बाजार की रफ्तार, किसानों से जुड़े अनेक सरकारी व गैरसरकारी मंच इंटरनेट पर न सिर्फ मौजूद हैं बल्कि उनमें से कई लोकप्रिय भी हो रहे हैं । आईआईटी मुंबई, कृषि विज्ञान केंद्र बारामती और विज्ञान आश्रम संस्था की मिली जुली पहल पर तैयार इंटरनेट साइट aacqua.org किसानों की मदद के लिए बना ऐसा ही एक मंच है । इसके जरिए किसान खेती, पशुपालन आदि पर वैज्ञानिकों की राय ले सकते हैं । हिन्दी, मराठी और अंग्रेजी भाषा में यह साइट अब तक किसानों के 6,000 से ज्यादा सवालों का जवाब दे चुकी है । ग्रामीण कहीं जर्सी गाय या रेशमकीट पालन से संभावित आमदनी के बारे में पूछ रहे हैं तो कहीं रतनजोत या काजू की खेती के बारे में अपने संशय दूर करना चाहते हैं । इसके अलावा सरकारी साइट agmarket.nic.in या krishiworld.com देश भर की मंडियों के भाव उपलब्ध कराती हैं । आईआईटी कानपुर द्वारा बनाई digitalmandi.iitk.ac.in के माध्यम से किसान नवीनतम तकनीकों के अलावा मंडी भाव व मौसम संबंधी जानकारी घर बैठे प्राप्त कर सकते हैं । विभिन्न सरकारी विभागों की वेबसाइटें भी अपने हिन्दी अनुवाद के साथ किसानों की सेवा को तत्पर हैं । हालांकि सरकारी कार्यशैली का असर यहां भी दिखाई देता है और कई बार साइट अपडेटेड नहीं होती लेकिन ग्रामीणों के लिए शुरुआत भी बुरी नहीं कही जा सकती । किसानों से जुड़े प्रश्नों का हल पेश करने वाला सर्च इंचन raftaar.com उपयोगकर्ता को लिप्यंतरण की सुविधा देता है । यानी अगर आप इसमें अंग्रेज़ी में यूरिया या फर्टिलाइजर लिखेंगे तो यह खुद ब खुद इन्हें हिन्दी में बदल कर संबंधित जानकारियां कंप्यूटर पर बटोर लाएगा। ग्रामीण भारत में बेहतर सड़कों का सपना भले 22वीं सदी में पूरा हो, लेकिन इनफारमेशन हाईवे अपने लाव-लश्कर के साथ तेजी से धूल भरी पगडंडियों पर दौड़ पड़ा है ।

पेप्सी भारत में निवेश करेगी 20 करोड़ डॉलर

खाद्य उत्पाद और शीतल पेय बनाने वाली वैश्विक कंपनी पेप्सिको भारत में अपनी उपस्थिति और मजबूत करने के लिए 20 करोड़ डॉलर (करीब 900 करोड़ रुपये) का अतिरिक्त निवेश करेगी । कंपनी यह निवेश अपनी निर्माण क्षमता बढ़ाने, उत्पाद विकास और कृषि संबंधी क्षेत्र में करेगी । पिछले साल ही कंपनी ने भारत में एक हजार करोड़ रुपये निवेश की घोषणा की थी । पेप्सिको की चेयरमैन एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी इंद्रा नूई ने एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि हम उत्पादों, निर्माण संयंत्रों और कृषि में यह निवेश करेंगे । प्रस्तावित निवेश से भारत में कंपनी की मौजूदगी और मजबूत हो सकेगी । नूई ने कहा कि कंपनी प्रति हेक्टेयर कृषि उत्पादन बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है । चाहे वह महाराष्ट्र या पंजाब में आलू का उत्पादन बढ़ाने की बात हो । विनिर्माण के लिए निवेश के बारे में पूछे जाने पर नूई ने कहा कि हम कोलकाता में विनिर्माण क्षमता बढ़ा रहे हैं । पेप्सिको ने 2009 में प. बंगाल में अपने 10 एकड़ संयंत्र के लिए चार एकड़ ज़मीन और खरीदी थी। इस संयंत्र में कंपनी लेज़ और कुरकुरे नाम के स्नैक बनाती है । कंपनी ने इस संयंत्र की उत्पादन क्षमता को 2011 तक 50,000 टन सालाना करने की योजना बनाई है । फिलहाल इस संयंत्र की उत्पादन क्षमता 20-25 हजार टन सालाना की है  । पेप्सिको ने पिछले साल ही भारत में एक हज़ार करोड़ रुपये (लगभग 20 करोड़ डॉलर) का निवेश करने की घोषणा की थी । इसके लिए कंपनी को सरकार की मंजूरी भी मिल चुकी है ।  भविष्य की निवेश योजनाओं के बारे में नूई ने कहा कि हम नई घोषणा तभी करेंगे जब हम इस घोषणा को पूरा कर देंगे। हालांकि उन्होंने भारत में अधिग्रहण से संबंधित सवालों का जवाब नहीं दिया।

­­­­­­­­­­­Glossary

( shabdkosh.com is a link for an onine H-E and E-H dictionary for additional help)

वैश्विक मंदी f global recession
आतंकवादी हमला m आतंकवादी आक्रमण m, terrorist attack
विपरीत परिस्थितियां f unfavorable circumstances
मद्देनजर in view of
दिग्गज giant, legend
अग्रणी leading
चुनौती f challenge
अटकल f guess, conjecture
मुखातिब one who is addressing someone
मंच m stage
रेशमकीट m silk worm
लिप्यंतरण m transcription
पगडंडी f natural trails in forest
लाव-लश्कर m stuff and army of people
संयंत्र m machinery, plant
अधिग्रहण m acquisition

Structural Revew

1. ज्यादा, फीसदी, मद्देनजर, फिलहाल Standardized spellings of these words are ज़्यादा, फ़ीसदी, मद्देनज़र, फ़िलहाल. These words have come to Hindi from the Perso-Arabic source via Urdu and have brought with them new sounds which are transcribed in Hindi with a dot below these five consonants – क़, ख़, ग़, ज़, फ़. Two of these sounds and were later reinforced through contact with English words like because, is, father, zebra, etc.. These two sounds have now become social markers in the Hindi speech community and are heard more in the urban environment. The sounds represented by the five dotted consonants can be heard in the speech of city folks but their variants क, ख, ग, ज, फ with their indigenous sounds are widely prevalent in the speech of most Hindi speakers.
2. निवेश, संयंत्र, उत्पाद, विनिर्माण, अधिग्रहण Hundreds of words have been coined to translate English words and are now current in business writings.

Cultural Notes

1. ज़, फ़

 

These two sounds are equivalent to the English sounds – z and f. Their pronunciation in words like ज़्यादा /zyaadaa/, फ़ीसदी /fiisadii/ is considered more elegant/urban/educated like/standard although their variants ज्यादा, फीसदी are deeply ingrained in the minds of many Hindi speakers.
2. कोलकाता (Kolkata)

 

This is the new name of the city कलकत्ता (Calcutta). The earlier spellings were changed in 2001 to match the traditional Bengali pronunciation of the name. This metropolis located on the east coast of India is a center of major cultural, commercial and literary activity.
3. Spoken and Written style differences

 

 

Hindi is a diglossic language, which means that the formal and informal styles have marked differences in vocabulary. Many words, which are used in the formal written style are not used in informal speech. For example, many newly coined words like पर्यटन, पर्यटक, निवेश, संयंत्र, उत्पाद, विनिर्माण, अधिग्रहण are used in the formal style whereas their English equivalents are used and mixed with Hindi speech in the informal style.

Practice Activities (all responses should be in Hindi)

1. Select the three most current business news items in Hindi and try to paraphrase them in your own words without the use of English words to the extent possible.
2. Compare a current news item from two different media sources in English and then based on that, create a news item in Hindi.
3. Study a business newspaper in Hindi and see if you can find a typical Indian flavor not to be found in English newspapers. It may be in terms of a historical allusion, a Hindi language idiom/proverb, or a cultural artifact or an ‘Indian’ observation.
4. Give an oral presentation of current business news before your group.
5. Give a presentation about the current status of Pepsi’s investments in India.

Comprehension Questions

1. Which of the following statements conforms with the text of this unit?

a. The terrorist attack in Mumbai severely affected tourism to India.

b. Tourism to India could not live up to the estimates of UNESCO.

c. Tourism to India did not meet the expectations of Indian government.

d. Foreign tourists did not cancel their reservations after the terrorist attack.

2. Which of the following statements is true about the use of Internet in the countryside?

a. Farmers can see various official websites in their language.

b. Farmers can see answers to the very questions they may have.

c. Farmers come in large numbers to use the Internet.

d. Farmers have very useful discussions with experts.