Skip to toolbar

Module 10

Previous | Next

Module Ten – Rural Development Plans

ग्रामीण विकास योजनाएं

Rural Development Plans

Modernization of Villages

Module 10.1

ग्रामीण विकास योजनाएं1

गाँवों का आधुनिकीकरण

 

विषय-प्रवेश

आज भारत के अनेक गांवों में बदलाव की नई इबारत लिखी जा रही है। गांवों में हुई नई पहल का असर दिखाई पड़ रहा है। अनेकानेक गांवों में शहर जैसी सुवधिाएं आ चुकी हैं। साथ ही साथ लघु एवं कुटीर उद्योग को बढ़ावा मिल रहा है। गांव-गांव सड़कें पहुंच गई हैं और आधारभूत सुविधाओं का लगातार विकास हो रहा है। गांव-गांव में न सिर्फ़ बैंक खोले जा रहे हैं बल्कि डाकघरों को भी बैंक के रूप में विकसित किया जा रहा है। आज कच्चे मकानों से भी हैलो की आवाज सुनाई पड़ती है। खेत-खलिहान से ही किसान संचार क्रांति के ज़रिए अपनी समस्याओं का समाधान प्राप्त कर रहे हैं।

भारत गांवों में  बसता है। गांवों  में जब तक शहरों  जैसी सुविधाएं विकसित नहीं की जाएँगी, तब तक समग्र भारत का विकास नहीं होगा, यह अवधारणा थी महात्मा गांधी की। महात्मा गांधी की इस अवधारणा को केन्द्र सरकार ने आत्मसात किया और ग्रामीण भारत के विकास के लिए कई नये प्रयोग किये। विभिन्न क्षेत्रों में समग्र विकास को गति देने के लिए एक के बाद एक नई योजनाएं लागू कीं।

भारत के गांव प्रगति के पथ पर

          जुलाई और नवम्बर 2008 में महाराष्ट्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के किसानों के बीच किए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि मोबाइल ने किसानों की मानो हर समस्या का समाधान कर दिया है। राष्ट्रीय कृषि योजना के तहत खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है। राष्ट्रीय बागवानी मिशन से जहाँ फल-फूल और सब्जी व मसालों की पैदावार बढ़ी है वहीं राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत अनाज एवं दालों का उत्पादन बढ़ा है। राष्ट्रीय ग्रामीण रोज़गार गारंटी कानून और शिक्षा का अधिकार जैसे कानून के लागू होने के बाद न सिर्फ शैक्षिक विकास को गति मिली है बल्कि बेरोजगारी की दर में भी गिरावट आई है,उन्हें गांव में ही अपने घर के आस-पास रोज़गार मिल रहे हैं।

          एक तरफ संचार क्रांति का सपना साकार हुआ तो दूसरी तरफ पंचायती राज की अवधारणा पूरी हुई। आज जो पंचायती राज एक्ट हमारे सामने हैं, उसमें महात्मा गांधी से लेकर जयप्रकाश नारायण की परिकल्पना समाहित है। दोनों की मान्यता थी कि पंचायती राज को संवैधानिक दर्जा दिया जाए।

          पहली हरितक्रांति को अब तीन दशक से अधिक समय बीत चुका है। इस दौरान देश की जनसंख्या भी बढ़ी है और लोगों  की जरूरतें भी। ग्रामीण इलाके में बिजली,पानी,स्वास्थ्य-सेवाएं,संचार,शिक्षा,सड़कें, रोज़गार आदि के साधन बढ़ रहे हैं। इसका असर यह हुआ कि गाँवों से पलायन थम रहा है। देश की सभी पंचायतों को इंटरनेट से सुसज्जित किया जा रहा है। यहां रेलवे आरक्षण से लेकर किसानों को मौसम तक की जानकारी मिल सकेगी। अभी शुरुआती दौर में ढाई लाख केंद्र खोले जा रहे हैं, जबकि वर्ष 2014 तक हर पंचायत में ऐसा ही एक केन्द्र हो जाने की आशा है। डाकघरों को बैंक बनाने का सपना जल्द पूरा होने के आसार हैं। भारतीय डाक विभाग देश के 2007 डाकघरों में कोर बैंकिंग प्रणाली जल्द शुरू होने वाली है या अब तक हो चुकी है। इस प्रणाली के शुरू होने के बाद आप अब डाकघरों की बचत योजनाओं में अपना पैसा देशभर के किसी भी डाकघर से निकलवा या जमा करवा सकते हैं।

संचार क्रांति का सच होता सपना

                   संचार क्रांति का सपना अब सच होता नजर आ रहा है। अनेक गांवों में संचार से जुड़ी करीब-करीब हर सुविधा पहुंच गई है। संचार क्रांति के इस सपने का असर यह हुआ है कि गांवों  में रोजगार के नये-नये रास्ते खुले हैं। आज भारत के गांवों में टेलीफोन,मोबाइल तो पहुंच ही गये हैं, अब गांव-गांव ब्रॉडबैंड पहुंचाने की नई पहल की जा रही है। इससे ग्रामीण इलाकों  में बैंकिंग, स्वास्थ्य,शिक्षा से सम्बन्धित सेवाओं का पहुंचाना आसान हो जायेगा। एक तरफ केन्द्र सरकार की ओर से ग्रामीण भारत में  संचार क्रान्ति को तेज किया जा रहा है तो दूसरी तरफ उसका असर भी दिखने लगा है। कॉल सेंटर में नौकरी के लिए अब गांव के पढ़े-लिखे युवकों को शहर की तरफ नहीं भागना पड़ेगा। गांवों में कॉमन सर्विस सेंटर खोले जाने पर ग्रामीण बेरोजगारों को सबसे ज्यादा लाभ होगा। इन केन्द्रों में कम्प्यूटर,स्कैनर,प्रिंटर और एक तकनीकी कर्मचारी की नियुक्ति की जायेगी जहां पर गांव का आदमी किसी भी प्रकार का बिल जमा कर सकेगा। जमीन के रिकॉर्ड व भूमिखाते की भी जानकारी मिल सकेगी। इस क्रांतिकारी परिवर्तन से गाँवों के लोग बाहर की दुनिया से जुड़ेंगे और बाहर की दुनिया की चमक-दमक और नए नए उत्पाद वहां भी पहुंचेंगे – इसमें सन्देह नहीं।

उपयोगी शब्दार्थ

( shabdkosh.com is a link for an onine H-E and E-H dictionary for additional help)

इबारत f

लघु एवं कुटीर उद्योग m

आधारभूत सुविधा f

विकसित करना

खेत-खलिहान m

किसान m/f

संचार क्रांति  f

समस्या f

समाधान m

समग्र

अवधारणा f

केन्द्र सरकार m

आत्मसात करना 

ग्रामीण भारत m

सर्वेक्षण m

बागवानी f

खाद्य सुरक्षा f

शैक्षिक विकास m

बेरोजगारी f

परिकल्पना f

समाहित होना

मान्यता f

संवैधानिक दर्जा m

हरितक्रांति f

दशक m

जनसंख्या f   

साधन m

पलायन m

सुसज्जित करना

आरक्षण m

आसार m pl.

पढ़े-लिखे युवक   m pl.

नियुक्ति f

भूमिखाता m

जानकारी f

क्रांतिकारी

चमक-दमक f

सन्देह

meaning, diction

small and cottage industry

basic facility

to develop

fields & barns

farmer

communication revolution

problem

resolution

whole

concept

central government

to assimilate                    

rural India

survey

horticulture, gardening

food security

educational development

unemployment

hypothesis, supposition

to be included, consolidated

belief

constitutional status

green revolution

decade

population   

source(s), resource(s)

fleeing

to adorn

reservation

prospects

educated youth

appointment

land account

information

revolutionary

brilliance

doubt

Linguistic and Cultural Notes

1. Rural dialects of Hindi in different regions of the Hindi belt in India have structural differences. Dialects in adjacent areas have more mutual comprehensibility than dialects in regions which are further apart. All of them are structurally different from standard Hindi in multiple ways and are not always mutually comprehensible. Standard Hindi is understood widely as it is a language of wider communication and also a language studied in schools across all regions. People in rural areas differ in their Standard Hindi proficiency level depending on their exposure to it in and outside school. Rural dialects on the other hand are not always easily understood by those who have been exposed to only Standard Hindi.

2. Economic development in rural India has opened new doors for India’s big businesses. Local rural markets are small and dispersed over wide areas. New marketing challenges have emerged for India’s big corporations as they try to expand to these localized rural areas. Challenges primarily arise due to the limited reach of English in these regions, the diversity of languages and dialects across areas, and the significant difference between rural and urban cultures. The rules of advertising, marketing, and interacting with rural consumers are somewhat different, and therefore corporations have been consulting with various agencies that specialize in this area.

Language Development

The two following vocabulary categories are designed for you to enlarge and strengthen your vocabulary.  Extensive vocabulary knowledge sharpens all three modes of communication, With the help of dictionaries, the internet and other resources to which you have access, explore the meanings and contextual uses of as many words as you can in order to understand their many connotations.

Semantically Related Words

Here are words with similar meanings but not often with the same connotation.

बदलाव

आधारभूत

सुविधा

किसान

समाधान

सुरक्षा

मान्यता

संवैधानिक

जनसंख्या

सुसज्जित करना

पढ़े-लिखे

परिवर्तन

बुनियादी

सहूलियत            

कृषक

हल

हिफ़ाज़त

विश्वास

कानूनी

आबादी

सजाना

शिक्षित

Structurally Related Words (Derivatives)

आधार, आधारित, निराधार, आधारभूत, आधार-स्तम्भ, आधारहीन

सुविधा, सुविधाजनक

विकास, विकसित, अबिकसित, विकासशील                                          

खेत, खेती, खेतीहर

धारणा, धारक, अवधारणा                                            

केन्द्र, केन्द्रीय, केन्द्रीकरण, विकेन्द्रीकरण

गाँव, ग्राम, ग्रामीण, ग्राम्य

बाग, बागवानी                                  

रक्षा, सुरक्षा, रक्षण, रक्षक, संरक्षण, अनुरक्षण, आरक्षण

शिक्षा, शिक्षक, शिक्षिका, शिक्षण, प्रशिक्षण, शिक्षित, सुशिक्षित, अशिक्षित, शैक्षिक

रोज़गार, रोज़गारी, बेरोजगारी                                     

कल्पना, परिकल्पना, काल्पनिक, संकल्पना                                  

संविधान, संवैधानिक

दस, दश, दशक

Comprehension Questions 

1. What is the tone of this article about rural development?

a. in progress

b. planning stage

c. state of inactivity

d. sluggish state

2. Which basic amenity for villages is not mentioned in the text?

a. personal telephones

b. speedy transportation

c. job opportunities

d. modern products